समर्थक

शुक्रवार, 10 जून 2011

दवा नहीं, दबा कर इलाज

एक्यु चीनी भाषा का शब्द है, जिसका मतलब है पॉइंट, यानी अगर शरीर के कुछ खास पॉइंट्स पर सूई से पंक्चर (छेद) कर इलाज किया जाए तो एक्युपंक्चर कहलाता है और अगर उन्हीं पॉइंट्स पर हाथ से या किसी इक्युपमेंट से दबाव डाला जाए तो एक्युप्रेशर कहलाता है। अगर पैरों और हाथों के पॉइंट्स को दबाते हैं तो रिफ्लेक्सॉलजी कहलाता है, जबकि मसाज के जरिए पूरे शरीर के पॉइंट्स दबाने को शियात्सु कहते हैं। अगर एनर्जी कम है तो क्लॉकवाइज और ज्यादा है तो एंटी-क्लॉकवाइज दबाया जाता है। इसके अलावा, प्रेस और रिलीज तकनीक भी अपना सकते हैं यानी कुछ देर के लिए पॉइंट को दबाएं, फिर छोड़ दें। ऐसा बार-बार करें।


कितना वक्त लगता है
शरीर में कुल 365 एनर्जी पॉइंट होते हैं। अलग-अलग बीमारी में अलग-अलग पॉइंट असर करते हैं। कुछ पॉइंट कॉमन भी होते हैं। एक्युपंक्चर का एक सेशन 40-60 मिनट का होता है और एक बार में 15-20 पॉइंट्स पर पंक्चर किया जाता है। एक्युप्रेशर में हर पॉइंट को दो-तीन मिनट दबाना होता है। आमतौर पर 3-4 सेशन में असर दिखने लगता है और 15-20 सिटिंग्स में पूरा आराम आ जाता है। हालांकि इलाज लंबा भी चल सकता है। एक सिटिंग के 500 से 1000 रुपये तक लिए जाते हैं। अच्छे डॉक्टर इलाज से पहले इलेक्ट्रो मेरिडियन इमेजिंग (ईएमआई) टेस्ट करते हैं, जिसमें एनर्जी लेवल और पॉइंट्स की जांच की जाती है।

एक्यु योग भी जानें
एक्युपंक्चर पॉइंट्स के साथ मिलाकर योग किया जाए तो एक्यु योग कहलाता है। जैसे कि एक्युपंक्चर या प्रेशर से शुगर के मरीज के स्प्लीन (तिल्ली) या पैंक्रियाज पॉइंट को जगाया जाता है और साथ में शलभासन कराया जाता है, जोकि स्प्लीन या पैंक्रियाज के लिए फायदेमंद है। अस्थमा में फेफड़ों के पॉइंट्स को दबाने के अलावा प्राणायाम कराया जाता है। अगर मरीज को योग और एक्युप्रेशर पॉइंट, दोनों की जानकारी हो तो अच्छा है।

टिप्स
कंक्रीट पर रोजाना 10-15 मिनट नंगे पैर चलें। ध्यान रखें कि जहां चलें, वह एरिया साफ-सुथरा हो ताकि पैरों को कोई चोट न पहंुचे। नंगे पैर चलने से तलुवों में मौजूद पॉइंट्स दबते हैं, जिससे खून का दौर बढ़ता है। इससे थकान और तनाव कम होता है और पैरों, घुटनों व शरीर के दर्द में राहत मिलती है। जो लोग नंगे पांव नहीं चलना चाहते, वे सरसों या किसी भी तेल से तलुवों की जोर-जोर से तब तक मसाज करें, जब तक कि उनसे गर्मी न निकलने लगे। एक्युप्रेशर चप्पलें भी फायदेमंद हैं।

नहाते हुए रोजाना तलुवों को ब्रश से 4-5 मिनट अच्छी तरह रगड़ें।

हफ्ते में दो बार सिर की 5-10 मिनट अच्छी तरह से मसाज करें। इसके अलावा सीवी 20 पॉइंट (जहां कई लोग चोटी रखते हैं) पर रोजाना 15-20 बार हल्के हाथ से मारें। इससे करीब 100 पॉइंट जागते हैं। डिप्रेशन से लेकर मेमरी लॉस, पार्किंसंस जैसी प्रॉब्लम्स में मदद मिलती है।

कान के नीचे वाले हिस्से (इयर लोब) की रोजाना पांच मिनट मसाज करने से याददाश्त बेहतर होती है। यह टिप पढ़नेवाले बच्चों के लिए बहुत उपयोगी है।

अगर भूख कम करनी है तो खाने से आधा घंटा पहले कान के बाहर छोटेवाले हिस्से (ट्राइगस) को दो मिनट उंगली से दबाएं। भूख कम लगेगी। यहीं पर प्यास का भी पॉइंट होता है। निर्जला व्रत में लोग इसे दबाएं तो प्यास कम लगेगी।

जीभ रोजाना अच्छी तरह से साफ करें। जीभ में हार्ट, किडनी आदि के पॉइंट होते हैं। जीभ की सफाई के दौरान ये दबते हैं।

तीखे किनारों वाले रोलर को हाथ पर फेरें तो कई दर्द गायब हो जाते हैं।

रोजाना 5-7 मिनट तालियां बजाएं। इससे हाथों में मौजूद एक्युप्रेशर पॉइंट जागते हैं।


स्टमक 36, रेन 6 और स्प्लीन 6 को टोनिफिकेशन पॉइंट कहा जाता है। इन्हें रोजाना एक-एक मिनट दबाएं तो कार्यक्षमता और इम्यूनिटी बढ़ती है। एनर्जी बनी रहती है।

नोट: ऊपर बताई गतिविधियां को करने से वाइट ब्लड सेल्स बढ़ते हैं, जो हमारे इम्यून सिस्टम को बेहतर करते हैं। ध्यान रखें कि इनसे पूरी बीमारी ठीक नहीं होगी, लेकिन राहत जरूर मिलेगी। बीमारी ठीक करने के लिए पूरा इलाज करना होगा।

ये पॉइंट्स हैं खास

एक्युप्रेशर/एक्युपंक्चर के कुल 365 पॉइंट्स में से कुछ ऐसे हैं, जो काफी असरदार होते हैं और कई तरह की बीमारियों में राहत दिलाते हैं। ये पॉइंट्स हैं :

जीवी 20 या डीयू 20
कहां : सिर के बीचोंबीच, जहां कई लोग चोटी रखते हैं।

उपयोग: याददाश्त बढ़ाता है, चिड़चिड़ापन, डिप्रेशन, हाइपर एक्टिविटी को कम कर मन को शांत करता है। पढ़नेवाले बच्चों के लिए खासतौर पर असरदार। यह सारे पॉइंट्स का कंट्रोलिंग पॉइंट भी है, इसलिए इसे हर बीमारी में दबाया जाता है।

जीबी 20
कहां : कान के पीछे के झुकाव में।

उपयोग: डिप्रेशन, सिरदर्द, चक्कर और सेंस ऑर्गन यानी नाक, कान और आंख से जुड़ी बीमारियों में राहत। दिमागी असंतुलन, लकवा, और यूटरस की बीमारियों में असरदार।

एलआई 11
कहां : एल्बो (कोहनी) क्रीज के बाहरी हिस्से पर।

उपयोग: कॉलेस्ट्रॉल, ब्लडप्रेशर, गले में इन्फेक्शन, यूरिन इन्फेक्शन, उलटी, डायरिया, हिचकी, पीलिया, खून की कमी आदि में। खून से संबंधित हर बीमारी में कारगर। इम्यूनिटी बढ़ाता है। यूबी 17 (बीएल 17) के साथ करें तो बेहतर है।

एसटी 36
कहां : घुटने से चार उंगली नीचे, बाहर की तरफ। इसे टोनिफिकेशन पॉइंट भी कहा जाता है। इस पर रोजाना मसाज करने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है।

उपयोग: फौरन स्टैमिना बढ़ाता है। थकान और लंबी बीमारी के बाद ठीक होने में मदद करता है। पेट की बीमारियों और लूज मोशंस में असरदार। दस्त में स्टमक 25 (नाभि के दोनों तरफ तीन उंगली की दूरी पर) भी काफी फायदेमंद है।

लिव 3
कहां : पैर में अंगूठे और साथ वाली उंगली के बीच में, तीन उंगली ऊपर की तरफ।

उपयोग: इमोशन कंट्रोल, पीरियड्स की तकलीफ, शरीर में जकड़न और आंखों की बीमारियां में फायदेमंद। हेपटाइटिस, पीलिया, लिवर से जुड़ी प्रॉब्लम में असरदार।

चेतना पॉइंट
कहां : लेफ्ट हाथ में कलाई और कोहनी के बिल्कुल बीचोबीच।

उपयोग: 30-35 साल की उम्र के बाद इसे नियमित रूप से दबाने से बुढ़ापा आने की रफ्तार कम होती है। यह नींद लाने में भी मदद करता है।

किस बीमारी में कौन-सा पॉइंट कारगर

सिरदर्द
एलआई 4, आंखों के आसपास दर्द है तो लिव 3, सामने दर्द है तो एसटी 44, माथे में दर्द है तो जीबी 43, सिर के पीछे दर्द में यूबी 67, सिर से पॉइंट जितना दूर होगा, उतना फायदेमंद।

बदन दर्द
एसपी 21, जीबी 34, एलआई 4

सर्वाइकल, गर्दन में दर्द
एसआई 9, जीबी 21, एलयू 7, एसआई 3

घुटने में दर्द
एसटी 34, एसटी 36, एसपी 10, यूबी 40

कमर का दर्द

यूबी 23, यूबी 40, यूबी 57, यूबी 60, यूबी 61, जीबी 34, एसटी 36

पेटदर्द, गैस, एसिडिटी
एसटी 36, एलआई 4, पी 6, रेन 12

सर्दी-जुकाम और खांसी
डीयू 20, एलआई 4, एलआई 11, एलयू 7, स्प्लीन 10 (नी कैप पर दो इंच ऊपर) एलर्जी के लिए

उलटी
पी 6, एसटी 36, के1 (मॉर्निंग सिकनेस और ट्रैवल सिकनेस में भी असरदार)

लूज मोशंस
एसटी 36, लिव 13, रेन 6, स्प्लीन 4

आंखों की बीमारियां
एसटी 1, यूबी 1 (इसमें सूई न लगाएं), एसटी 1, जीबी 1, एक्स्ट्रा 1, यूबी 67

मुंहासे
एलआई 4, डीयू 20, एलआई 11, एसटी 6, एलयू 7

चक्कर आना
एलआई 4, सीवी 13, पी 6

याददाश्त बढ़ाना
डीयू 20, एक्स्ट्रा 1

जीवनी शक्ति बढ़ाने के लिए
एसटी 36, एलआई 11 और स्प्लीन 36

नींद न आना
डीयू 20, यूबी 62, हार्ट 7 (मन को शांत करता है)

स्त्री रोग और जनन संबंधी रोग
स्प्लीन 6, रेन 4, लिव 3

थकान
एसटी 36, रेन 6, चेतना पॉइंट

कॉलेस्ट्रॉल
सीवी 12, सीवी 13, लिव 13, यूबी 17

ब्लड प्रेशर
लिव 3, लिव 4, एलयू 9, डीयू 20, लिव 4 भी गुस्सा कम करता है और दिमाग को कंट्रोल में रखता है।

शुगर
एसपी 10, सीवी 12, लिव 13

अस्थमा
एलयू 6, एलयू 7, एलयू 9, एलआई 11, पी 6, रेन 17, रेन 22 (इमरजेंसी में बेहद कारगर)

पीलिया
लिव 3, लिव 14, हेपटाइटिस और लिवर से जुड़ी बाकी प्रॉब्लम्स में भी

लकवा
एलआई 4, एलआई 11, एलआई 15, एसटी 31, एसटी 32, एसटी 36, एसटी 41, स्प्लीन 6, लिव 3

कौन-सा पॉइंट कहां

एक्स्ट्रा 1
कहां : माथे पर, जहां महिलाएं बिंदी लगाती हैं।

एक्स्ट्रा 2
कहां : आंख के कोने से एक उंगली पीछे कान की तरफ।

एलआई 4
कहां : अंगूठे और इंडेक्स फिंगर (तर्जनी) को मिलाते हैं तो सबसे ऊंचे पॉइंट पर यह मौजूद होता है।

एलआई 20
कहां : नाक के साइड में, नथुने जहां खत्म होते हैं।

यूबी 40
कहां : घुटने के पीछे।

रेन 4
कहां : नाभि से चार उंगली नीचे।

रेन 6
कहां : नाभि से दो उंगली नीचे।

रेन 12
कहां : पेट के सामनेवाले हिस्से पर बीच में, नाभि और पसलियों के बीच।

रेन 17
कहां : दोनों निपल के बीच सीने की हड्डियों के बीच में।

रेन 22
कहां : गले के सामने वाले गड्ढे में।

जीबी 21
कहां : कंधे और गले के जोड़ के बीच में।

सीवी 12
कहां : नाभि से तीन उंगली ऊपर।

सीवी 13
कहां : नाभि से चार उंगली ऊपर।

लिव 6
कहां : काफ मसल के पास, टखने से आठ उंगली ऊपर।

लिव 13
कहां : 12वीं पसली के पास, जहां पेट के साइड में दोनों कुहनियां टच करती हैं।

लिव 14
कहां : सीने में सामने की तरफ, निपल लाइन से नीचे छठी और सातवीं पसली के बीच।

एलयू 6
कहां : कलाई से आठ उंगली ऊपर, थोड़ा-सा बाहर की तरफ।

एलयू 7
कहां : एलयू 9 से दो उंगली ऊपर।

एलयू 9
कहां : कलाई के जोड़ से जहां अंगूठा शुरू होता है, उससे एक इंच अंदर की तरफ।

एसपी 10
कहां : घुटने से चार उंगली ऊपर साइड में।

एसपी 21
कहां : सीने पर आठवीं पसली के दोनों तरफ।

यूबी 23
कहां : रीढ़ की हड्डी के दोनों तरफ दो उंगली साइड में, पसलियों के निचले हिस्से में।

यूबी 59
कहां : काफ मसल से थोड़ा नीचे।

यूबी 60
कहां : यूबी 59 से दो उंगली नीचे।

यूबी 61
कहां : पंजे की बाहरी साइड में, छोटी उंगली के पास एड़ी से थोड़ा अंदर।

एसटी 31
कहां : जांघ के ऊपरी हिस्से पर।

एसटी 32
कहां : घुटने से आठ उंगली ऊपर बाहर की तरफ।

कहां : घुटने से चार उंगली नीचे।
एसटी 41

कहां : टखने के सामने।
लंग 7

कहां : कलाई के जोड़ से दो उंगली ऊपर।
पी 6

कहां : कलाई के सामने वाले हिस्से पर, कलाई के जोड़ से तीन उंगली ऊपर।

स्प्लीन 6
कहां : पैर के सामनेवाले हिस्से में, टखने से चार उंगली ऊपर।

के1
कहां : पैर के तलुवे में बीच वाली उंगली से थोड़ा नीचे, जहां उठा हुआ हिस्सा होता है।

हार्ट 7
कहां : कलाई पर अंदर की तरफ, एलयू 7 के पास।

किसका मतलब क्या

जीवी : गवर्निंग वेल्स
जीबी : गॉल ब्लेडर
यूबी : यूरिनरी गॉल ब्लेडर
एलआई : लार्ज इंटेस्टाइन
लिव : लिवर
एसटी : स्टमक
पी : पेरिकाडिर्म

सावधानियां बरतें

एक्युपंक्चर हमेशा अच्छे क्लिनिक और क्वॉलिफाइड डॉक्टर से कराएं। साफ-सफाई का खास ध्यान रखें।

सूइयां फिर से इस्तेमाल न करें। खुद की इस्तेमाल की हुई सूइयां भी फिर से इस्तेमाल न करें। कई लोग कहते हैं कि ज्यादा इस्तेमाल के बाद ही सूइयां बेहतर काम करती हैं, लेकिन यह सच नहीं है। इस्तेमाल की हुई सूइयों को दोबारा इस्तेमाल करने से एड्स या हेपटाइटिस जैसी बीमारियां हो सकती हैं।

गलत पॉइंट दबाने से फायदा नहीं होगा लेकिन नुकसान भी नहीं होगा। एक्युप्रेशर/एक्युपंक्चर का कोई साइड इफेक्ट नहीं है।
 

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही उपयोगी जानकारी दी है……………आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही उपयोगी जानकारी दी है|

    उत्तर देंहटाएं